बच्चे के हाथ लगा ‘इंसानी बच्चे के आकार’ जितना बड़ा मेंढक, देखकर गांव वालों के उड़े होश

0
197
बच्चे के हाथ लगा ‘इंसानी बच्चे के आकार’ जितना बड़ा मेंढक, देखकर गांव वालों के उड़े होश

सोलोमन द्वीप (Solomon Islands) में ग्रामीणों को एक विशालकाय मेंढक (Giant Frog) ने हैरान कर दिया

सोलोमन द्वीप (Solomon Islands) में ग्रामीणों को एक विशालकाय मेंढक (Giant Frog) ने हैरान कर दिया. यह ‘इंसानी बच्चे के आकार’ जितना बड़ा था. होनियारा (Honiara) निवासी जिमी ह्यूगो (Jimmy Hugo) द्वारा खींची गई एक तस्वीर में एक युवा लड़के को कैमरे के लिए मेंढक पकड़े हुए दिखाया गया है और इस तस्वीर ने सोशल मीडिया पर बड़ी चर्चा पैदा कर दी है. यह मेंढक की अलग प्रजाति है, जो आबादी में गिरावट का सामना कर रही है

टिम्बर मिलिंग ऑपरेशन के मालिक ह्यूगो ने कहा कि अप्रैल में जंगली सुअर का शिकार करते समय मजदूरों को मेंढक मिला था. इसके बाद उन्होंने फेसबुक पर विशालकाय मेंढक – ‘कॉर्नफ़र गुप्पी’ की एक तस्वीर साझा की.

ह्यूगो ने तस्वीर साझा करते हुए लिखा, ‘जहां से मैं आता हूं, वहां इसे बुश चिकन कहा जाता है.’

2f7aff38

800 से अधिक ‘शेयरों’ और हजारों प्रतिक्रियाओं को इकट्ठा करते हुए यह तस्वीर फेसबुक पर वायरल हो गई है. एक फेसबुक उपयोगकर्ता ने लिखा, ‘यह कमाल है.’ दूसरे यूजर ने लिखा, ‘यह सोलोमन द्वीप में सबसे बड़ा पानी का मेंढक है और शायद मेलानेशिया में.’ 

ह्यूगो ने एबीसी न्यूज को बताया, ‘मुझे लग रहा था कि कुछ ही लोग इस तस्वीर को देखेंगे, लेकिन कुछ देर बाद मैंने बहुत सारे कमेंट्स और रिएक्शन्स देखे. मैं चौंक गया कि लोग इस तस्वीर पर इतने रिएक्शन्स क्यों दे रहे हैं.’

सोलोमन द्वीप और पापुआ न्यू गिनी में, कॉर्नफ़र गुप्पी मेंढक को “बुश चिकन” या विशालकाय जाल वाले मेंढक के रूप में भी जाना जाता है. यह स्थानीय लोगों द्वारा शिकार किया जाता है और इसका मीट बेशकीमती है.

ह्यूगो ने कहा, ‘यह बुश चिकन है और यह चिकन से भी ज्यादा स्वादिष्ट होता है.’ सोशल मीडिया यूजर्स को ह्यूगो की फोटो पर भारी-भरकम मेंढक द्वारा अचंभित करने वाली टिप्पणी छोड़ कर आश्चर्यचकित रह गए हैं – यहां तक ​​कि विशेषज्ञ भी इसके आकार से हैरान हैं. ऑस्ट्रेलियाई संग्रहालय में उभयचर और सरीसृप संरक्षण जीव विज्ञान के क्यूरेटर जोडी रोले ने कहा, ‘मैंने कभी भी इतना बड़ा नहीं देखा है. यह काफी पुराना होगा.

ये मेंढक आज निवास स्थान के नुकसान और प्रदूषण के कारण आबादी में गिरावट का सामना कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here