शरद पवार , की बैठकों को लेकर अब राजनीतिक तेज हो गई है. 2024 के लोकसभा चुनावों की तैयारी में लग गए हैं.

0
157
शरद पवार , की बैठकों को लेकर अब राजनीतिक  तेज हो गई है. 2024 के लोकसभा चुनावों की तैयारी में लग गए हैं.

मुंबई. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सुप्रीमो शरद पवार की बैठकों को लेकर अब राजनीतिक कयासबाजी तेज हो गई है. कहा जा रहा है कि वो 2024 के लोकसभा चुनावों की तैयारी में लग गए हैं. शुक्रवार को शरद पवार ने इससे संबंधित कई सवालों के जवाब दिए हैं. उन्होंने कहा है- ‘राष्ट्रमंच की बैठक के दौरान गठबंधन पर चर्चा नहीं हुई है, लेकिन अगर कोई वैकल्पिक ताकत तैयार होगी तो वो कांग्रेस को साथ लिए बिना संभव नहीं है.’ बता दें कि शरद पवार के घर पर हुई विपक्षी दलों की बैठक के बाद से कांग्रेस के रोल को लेकर चर्चा की जा रही थी. अब पवार ने खुद ही इसका जवाब दे दिया है.

जब उनसे पूछा गया कि क्या वो नए विपक्षी गठबंधन का चेहरा होंगे तो जवाब मिला-हमने अभी तक इस बात पर चर्चा नहीं की है लेकिन मुझे लगता है कि अभी सामूहिक नेतृत्व के साथ चलना चाहिए. मैंने ये लंबे समय तक किया है लेकिन इस वक्त मैं सबको साथ लेकर चलने पर ध्यान दूंगा. जिससे सबको गाइड कर सकूं और मजबूत बना सकूं.

बैठक में शामिल हुए थे ये नेता
बता दें कि 22 जून को शरद पवार के घर पर विपक्षी नेताओं की बैठक हुई थी. इस बैठक में यशवंत सिन्हा, पवन वर्मा, संजय सिंह, डी राजा, उमर अब्दुल्ला, जस्टिस एपी शाह, गीतकार जावेद अख्तर, केटीएस तुलसी, करन थापर, एडवोकेट मजीद मेमन, सांसद वंदना चव्हाण, एसवाई कुरैशी, संजय झा, सुधींद्र कुलकर्णी, अर्थशास्त्री अरुण कुमार, प्रीतीश नंदी, नीलोत्पल बसु, जयंत चौधरी और घनश्याम तिवारी शामिल हुए.

2018 में यशवंत सिन्हा ने राष्ट्रमंच का गठन किया था
इस बैठक के एक दिन पहले सोमवार को प्रशांत किशोर और शरद पवार की मुलाकात के बाद ऐसा कहा जा रहा था कि पवार देश में तीसरे मोर्चे को तैयार करने की कवायद तेज करते हुए यह बैठक की गई. मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ 2018 में यशवंत सिन्हा ने राष्ट्रमंच का गठन किया था. सिन्हा अब टीएमसी के उपाध्यक्ष हैं.

क्या बोले थे एनसीपी नेता मजीद मेमन
एनसीपी नेता मजीद मेमन ने बैठक के बाद कहा था कि बैठक राष्ट्र मंच के प्रमुख यशवंत सिन्हा ने बुलाई थी और राष्ट्र मंच के सभी संस्थापक सदस्यों और कार्यकर्ताओं की मदद से बुलाई गई थी. मेमन ने कहा कि मीडिया में ऐसा कहा जा रहा था कि राष्ट्र मंच की ये बैठक शरद पवार ने बीजेपी विरोधी राजनैतिक पार्टियों को एकजुट करने के लिए आयोजित की है. ये पूरी तरह से गलत है. मैं ये साफ कर देना चाहता हूं कि यह बैठक पवार के घर पर हुई थी लेकिन उन्होंने इस बैठक को आयोजित नहीं किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here