सब बढ़िया है’- CM नीतीश कुमार के वर्चुअल दौरे के पहले लोगों को पट्टी पढ़ाते दिखे अधिकारी, देखें Video

0
154
सब बढ़िया है’- CM नीतीश कुमार के वर्चुअल दौरे के पहले लोगों को पट्टी पढ़ाते दिखे अधिकारी, देखें Video


बिहार में कोरोना को लेकर इंतजाम का जायजा लेने के लिए CM नीतीश ने बिहार के कई जिलों में वर्चुअल टूर का कार्यक्रम बनाया था. वो जिलों में किए जा रहे इंतजाम देखना चाहते थे और लोगों से सीधे बात कर जमीनी हकीकत जानना चाहते थे.

पटना: 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बिहार के कई जिलों में कोरोना के मद्देनजर किए जा रहे इंतजामों का जायजा लेने के लिए वर्चुअल टूर का कार्यक्रम करना था. उन्हें हाजीपुर के एक सामुदायिक किचन में लोगों से बात करनी थी. इसके पहले कुछ सरकारी अधिकारी वहां खाना खा रहे लोगों को सिखाते नजर आए कि उन्हें मुख्यमंत्री के सामने क्या बोलना है. सरकारी इंतजामों पर मुख्यमंत्री की वाहवाही लेने के लिए अधिकारियों की ‘जद्दोजहद’ कैमरे में कैद हो गई.

दरअसल, बिहार में कोरोना को लेकर इंतजाम का जायजा लेने के लिए CM नीतीश ने बिहार के कई जिलों में वर्चुअल टूर का कार्यक्रम बनाया था. नीतीश कुमार जिलों में किए जा रहे इंतजाम देखना चाहते थे और लोगों से सीधे बात कर जमीनी हकीकत से रूबरू होना चाहते थे. सामुदायिक किचन में गरीब और मजबूर लोगों के लिए सरकारी इंतजाम पर खाने की व्यवस्था बिहार सरकार ने शुरू की है. मकसद है कोई भूखा न रहे और लोगों को सहूलियत हो.

हाजीपुर में जिस सामुदायिक किचन का नीतीश वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वर्चुअल दौरा करने वाले थे, वहां सुबह से ही जबरदस्त इंतजाम दिखा. बैनर-पोस्टर, साफ-सफाई से लेकर हर इंतजाम चकाचक किया गया. पूरा प्रशासनिक अमला सुबह से ही किचन केंद्र पर जमे थे. लेकिन CM के वर्चुअल दौरे से ठीक पहले हाजीपुर के इस सामुदायिक किचन केंद्र पर एक तस्वीर कैमरे में कैद हुई जो बताता है कि सरकार को फील गुड कराने के लिए स्थानीय स्तर पर अधिकारी किस तरह सिस्टम का इस्तेमाल करते हैं

दरअसल, किचन में मिलने वाले खाने में या फिर किसी अन्य बात की कोई शिकायत न हो इसके लिए अधिकारी खाना खाने वाले लोगों को समझाते दिखे कि CM साहब से बात हो तो उन्हें क्या कहना है, कैसे कहना है.

सरकार के इंतजाम को जमीनी स्तर पर पूरा कराने की जिम्मेदारी अधिकारियों की होती है. कई मौकों पर इंतजाम बेहतर भी होते हैं, लेकिन अगर कहीं कोई कमी रह गई हो तो सरकार में बैठे मंत्री या मुख्यमंत्री जनता से संवाद से ही हकीकत जान पाते हैं. ऐसे में CM से बात कराने से पहले जिस तरह से अधिकारियों ने लोगों को पट्टी पढ़ाई, उसे कहीं से भी ठीक नहीं माना जा सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here