सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा: भौतिक परीक्षा के बजाय आंतरिक मूल्यांकन या घर बैठे परीक्षा का विकल्प चुनें, एसआईओ का शिक्षा मंत्री से निवेदन

0
151
सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा: भौतिक परीक्षा के बजाय आंतरिक मूल्यांकन या घर बैठे परीक्षा का विकल्प चुनें, एसआईओ का शिक्षा मंत्री से निवेदन

स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया (एसआईओ) ने केंद्र सरकार से सीबीएसई कक्षा 12 बोर्ड परीक्षा भौतिक रूप से आयोजित नहीं करने और मूल्यांकन के लिए आंतरिक मूल्यांकन या होम टेस्ट जैसे अन्य तरीके खोजने का आग्रह किया है।

सीबीएसई को पहले भी एसआईओ ने बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने और छात्रों को स्कूलों द्वारा आयोजित आंतरिक मूल्यांकन और सतत व्यापक मूल्यांकन (सीसीई) के आधार पर पदोन्नत करने के लिए कहा था। बोर्ड ने 10वीं की परीक्षाओं के लिए इस मांग को मान लिया था, लेकिन 12वीं की परीक्षा को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को सौंपे गए ताजा पत्र में एसआईओ ने यह मांग दोहराई है। हालाँकि, यह देखते हुए कि बोर्ड परीक्षाओं को पूर्ण रूप से रद्द करना अधिकांश राज्य सरकारों को स्वीकार्य नहीं होगा, क्यूंकि हाल ही में राज्य सरकार के प्रतिनिधियों की अनिर्णीत बैठक में यह स्पष्ट हो चुका है, संगठन ने परीक्षा आयोजित करने के वैकल्पिक तरीकों को भी सामने रखा है।

एसआईओ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद सलमान अहमद ने अपने पत्र में कहा कि, “यदि किसी कारणवश बोर्ड परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं, तो हमारा सुझाव है कि परीक्षा एक खुली किताब और घर बैठे परीक्षा के आधार पर ली जानी चाहिए। प्रश्न पत्र और उत्तर पुस्तिका छात्रों को उनके घरों पर उपलब्ध कराई जा सकती हैं, साथ ही परीक्षा पूरी करने और उत्तर पुस्तिका परीक्षा केंद्र में वापस जमा कराने के लिए पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए।

साथ ही परीक्षाओं को चुनिंदा विषयों तक ही सीमित करने के सुझाव पर भी विचार किया जाना चाहिए, ताकि छात्रों का बोझ कम हो सके। ऐसे परिदृश्य में छात्रों को अपनी पसंद के कम से कम तीन विषयों का चयन करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

सलमान अहमद ने कहा, “हम मानते हैं कि यह ज़रूरी है कि किसी भी परिस्थिति में परीक्षा केंद्रों पर भौतिक परीक्षा न हो। प्रस्तावित सुरक्षा सावधानियों के बावजूद, छात्रों, शिक्षकों और संबंधित कर्मचारियों को इतनी बड़ी संख्या में इकट्ठा करना सामूहिक स्वास्थ्य के लिए बहुत अधिक जोखिम पैदा कर सकता है। और न केवल प्रक्रिया में शामिल प्रत्येक व्यक्ति बल्कि आम जनता के लिए भी खतरा पैदा हो सकता है।”


स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया (एसआईओ)
+91 72086 56094

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here