हज करने के लिए कोवीशील्ड की दोनों खुराक लेना ज़रूरी, इस साल भी कोरोना प्रोटोकॉल के तहत सीमित संख्या में अदा किया जाएगा हज

0
217
हज करने के लिए कोवीशील्ड की दोनों खुराक लेना ज़रूरी, इस साल भी कोरोना प्रोटोकॉल के तहत सीमित संख्या में अदा किया जाएगा हज

देवबंद:  वैश्विक महामारी कोरोना के चलते दुनिया भर में सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक गतिविधियां बेहद प्रभावित हुई है। यही वजह है कि इस साल भी सऊदी अरब सरकार द्वारा सीमित संख्या में ही हज अदा करने का आदेश जारी किया गया है। इस साल भी हज पर कोवड का असर नजर आ रहा है और करोना प्रोटोकॉल के तहत ही हज की अदायगी हो सकेगी और सिर्फ 60 हजार लोगों को हज करने की सशर्त अनुमति मिलेगी।

गौरतलब है कि पिछले साल करोना महामारी के चलते हैं सऊदी अरब में निवास करने वाले मात्र 1 हजार लोगों ने ही हज का फ़र्ज़ अदा किया था।

वहीं, सेंट्रल हज कमेटी ऑफ इंडिया भी इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर चुकी है। जिसमें हज आवेदक के लिए कोवीशील्ड की दोनों खुराक लेना अनिवार्य किया गया है।

सोमवार को खादिमुल हुज्जाज (हज सेवक) एवं मुस्लिम फंड ट्रस्ट के प्रबंधक मोहम्मद सुहैल सिद्दीकी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि सऊदी सरकार द्वारा घोषित 60 हजार हाजियों में 15 हजार लोगों का कोटा अरब के लोगों के लिए सुरक्षित किया गया है। जिसका मतलब यह है कि पूरी दुनिया से केवल 45 हजार खुशकिस्मत लोग ही इस वर्ष हज का फरीजा अदा कर सकेंगे।

उन्होंने बताया कि उम्मीद है कि सऊदी सरकार एक सप्ताह के भीतर यह भी ऐलान कर देगी कि किस देश के कितने लोगों को हज के लिए सऊदी अरब आने की अनुमती दी जाएगी। हिंदुस्तान का कोटा निर्धारित होने के बाद उसे प्रांत स्तर पर बांटा जाएगा। इस लिए जो लोग इस वर्ष हज यात्रा पर जाना चाहते हैं वह तैयारी शुरू कर दें और साथ-साथ अपने कागजात भी पूरे कर लें।

देवबंद हज काउंटर के संयोक फहीम सिद्दीकी और हज ट्रेनर मौलाना दिलशाद कासमी ने बताया कि सेंट्रल हज कमेटी ऑफ इंडिया इस संबंध में पहले ही दिशा-निर्देश जारी कर चुकी है। जिसमें आजमीन हज के लिए सीरम इंस्टीट्यूट के कोवी शील्ड की दोनों डोस लेने को अनिवार्य किया गया है। साथ ही यह भी निणर्य लिया गया है कि 18 वर्ष से कम और 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को हज यात्रा पर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इतना ही नहीं जिन लोगों को हज यात्रा की अनुमति मिलेगी उन्हें लिखित रूप में यह बताना होगा कि वह कोरोना के इस भयावह काल में हज यात्रा पर जाना चाहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here