उदित राज बोले ,भागवत ने कहा था हिंदू मुस्लिम का DNA एक है फिर नए बने मंत्रियों में एक भी मुसलमान नहीं है क्यों?

0
187

तमाम राजनैतिक अटकलों के बाद यूपी को लेकर केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में लग रहा अंदेशा बुधवार शाम तक निर्वृत्त हो गया। प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा उनके दूसरे कार्यकाल में बुधवार को यह पहला मंत्रिमंडल विस्तार हुआ।

इस कैबिनेट विस्तार में यूपी के सात मंत्री बनाए गए जिसमें बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर कैबिनेट विस्तार में जातीय और क्षेत्रीय समीकरण को तूल दी है।

जिसमें अपना दल की नेता और मिर्जापुर से सांसद अनुप्रिया पटेल, लखनऊ के मोहनलालगंज सीट से सांसद कौशल किशोर, आगरा से सांसद सत्य पाल सिंह बघेल, जालौन से सांसद भानू प्रताप सिंह वर्मा, राज्यसभा सांसद बीएल वर्मा, खीरी से सांसद अजय मिश्र और महाराजगंज से सांसद पंकज चौधरी को मंत्री पद सौंपा गया।

गौर करने वाली बात यह है कि कैबिनेट विस्तार में तीन एससी वर्ग और तीन ओबीसी वर्ग के मंत्रियों को शामिल किया गया है। वहीं एक ब्राह्मण को जगह दी गई है।

दरअसल इस कैबिनेट विस्तार में 3 एससी वर्ग 3 ओबीसी वर्ग एक ब्राह्मण चेहरा होने के अलावा एक भी मुस्लिम चेहरा ना होने के कारण भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्ता डॉ उदित राज ने ट्विटर के जरिए तंज कसा है।

उन्होंने कहा कि “भागवत जी आपने कहा था कि मुसलमान और हिन्दू एक हैं, DNA समान हैं लेकिन आज 39 नए मंत्री बने जिसमे मुसलमान एक भी नही है।”

दरअसल आपको बता दें आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को ख्वाजा इफ्तार अहमद की लिखित पुस्तक ‘द मीटिंग ऑफ माइंड्स’ का विमोचन करते हुए कहा, हम एक हैं और इसका आधार हमारी मातृभूमि है।

इसलिए यहां कभी झगड़ा करने की जरूरत नहीं पड़ती। हम समान पूर्वजों के वंशज हैं। हम भारत के सब लोगों का डीएनए समान है। चाहे वे किसी भी धर्म के हों।

मोहन भागवत के इस बयान से सोशल मीडिया पर सियासत काफी तेज हो गई थी।

आपको बताते चलें कि पीएम मोदी ने कैबिनेट विस्तार में अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश जैसे चुनावी राज्यों पर निश्चित तौर पर फोकस किया है।

पीएम मोदी को मिलाकर यूपी से अभी तक 10 मंत्री थे, जिनमें से संतोष गंगवार ने इस्तीफा दे दिया है। यूपी से सात नए मंत्रियों की जगह दी गई है, जिसको मिलाकर 16 मंत्री हो गए हैं।

बीजेपी के लिए 2022 का चुनाव काफी अहम है और पार्टी सूबे की सियासत में किसी तरह का कोई गुंजाइश नहीं रखना चाहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here