Inside Story : एयर एंबुलेंस का पहिया गिरने के बाद आखिर कैसे विमान की कराई गई सेफ लैडिंग

0
171

एयर एंबुलेंस (Air Ambulance) की क्रैश लैंडिंग की आशंका के बीच रनवे पर अग्निशमन दल के सभी कर्मचारी पूरी तरह तैयार थे. पायलट ने जैसे ही विमान की लैंडिंग कराई उसपर फोम डालकर विमान में आग लगने से बचा लिया गया.

मुंबई. महाराष्ट्र के नागपुर (Nagpur) से हैदराबाद (Hyderabad) जा रहा एयर एंबुलेंस (Air Ambulance) गुरुवार

को एक बड़े हादसे का शिकार होते-होते बच गया. दरअसल, जैसे ही विमान ने उड़ान भरी उसका पहिया अलग हो गया. हर तरफ इमेरजेंसी लैंडिंग की तैयारी चल रही थी. मुंबई एयरपोर्ट पर जैसे ही इमरजेंसी लैंडिंग की पूरी तैयारी कर ली गई वैसे ही विमान को मुंबई एयरपोर्ट के लिए मोड़ दिया गया. क्रैश लैंडिंग की आशंका के बीच रनवे पर अग्निशमन दल के सभी कर्मचारी पूरी तरह तैयार थे. पायलट ने जैसे ही विमान की लैंडिंग कराई उसपर फोम डालकर विमान में आग लगने से बचा लिया गया

मुंबई एयरपोर्ट सुत्रों के मुताबित चार्टर एयर एंबुलेंस झारखंड के एक बड़े व्यापारी ने बुक कराया था. इस एयर एंबुलेंस में एक मरीज और उसके साथ एक रिश्तेदार और तीन क्रू मेंमबर थे. एयर एंबूलेंस बागडोगरा से उड़ा था और नागपुर में री-फ्यूलिंग के लिए उतरा था. फिर शाम को 5 बजे नागपुर से हैदराबाद के लिए उड़ान भरी. नागपुर में ही उड़ान भरने के बाद प्लेन का नोस वील टूट कर गिर गया. तब तक जहाज नागपुर से काफी दूर उड़ चुका था.

पायलट ने चेक किया तो उसके सिस्टम पर नोस वील नहीं दिख रही थी. जिसकी जानकारी उसने नजदीक के एटीसी टावर यानी मुंबई में दी. मुंबई एटीसी प्लेन को लो पास फ्लाई (मतलब रन वे के ऊपर से उड़ान भरेगा, पर लैंड नहीं होगा) करने को कहा. जब एटीसी ने देखा की प्लेन में नोस वील नहीं है तो प्लेन को वापस उड़ने के आदेश दिए, जिसके बाद मुंबई एयरपोर्ट ने फुल इमेरजेंसी लैंडिंग की जानकारी दी गई. जहाज आसमान में उड़ता रहा और कुछ समय के लिए जहाज रडार से गायब भी हो गया.
इसे भी पढ़ें :

इमेरजेंसी लैंडिंग के लिए पूरा मुंबई एयरपोर्ट तैयार किया गया. सारे ऑपेरशन को रोक दिया गया. रन वे पर फोम से छिड़काव किया गया ताकी इमेरजेंसी लैंडिंग के समय जहाज में आग न लगे. रात 9.07 मिनट पर प्लेन आता है और रन वे पर घसीटता हुआ लैंड होता है. उसके बाद तमाम फायर ब्रिग्रेड और एंबुलेंस मौके पर पहुंचते हैं. तुरंत प्लेन में मौजूद पांचों लोगों को उतारा जाता है और पूरे प्लेन को फायर ब्रगेड फोम से छिड़काव करते हैं. पूरे तीन घंटों तक मुंबई एयरपोर्ट सुपर अलर्ट पर था. पायलट और मुंबई एयरपोर्ट के अधिकारियों की सूझबूझ से एक बड़ा हादसा टाल दिया गया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here