आखिर शरद पवार से क्यों की मुलाकात? प्रशांत किशोर ने बताई बात

0
157
आखिर शरद पवार से क्यों की मुलाकात? प्रशांत किशोर ने बताई बात

मुंबई. चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) से मुलाकात की. शुक्रवार को हुई इस बैठक के बाद सियासी चर्चाएं तेज हैं. कहा जा रहा है कि 2024 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के खिलाफ एक राष्ट्रीय गठबंधन के प्रयास किए जा रहे हैं. हालांकि, किशोर ने इन बातों का खंडन किया है. हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में किशोर ने पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस (TMC) और तमिलनाडु में द्रविड़ मुन्नेत्र कझगम (DMK) के लिए रणनीति बनाने का काम किया था.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, किशोर, पवार के दक्षिण मुंबई स्थित आवास ‘सिल्वर ओक’ सुबह करीब 11 बजे पहुंचे थे. इसके बाद वे दोपहर 2 बजे वहां से निकले. इस दौरान बारामती से सांसद सुप्रिया सुले भी मौजूद रहीं. एनसीपी के राज्य प्रमुख जयंत पाटील भी बैठक में कुछ देर के लिए शामिल हुए थे. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार एनसीपी के अंदरूनी सूत्रों ने जानकारी दी कि बैठक में बीजेपी के विकल्प की संभावना पर भी चर्चा के मुद्दों में शामिल थी. वहीं प्रशांत किशोर ने कहा कि ‘यह बस एक निजी सद्भावना मुलाकात थी, जिसका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं

पवार ने तेज कर दिए हैं प्रयास
महाराष्ट्र राजनीति के वरिष्ठ नेता पवार बीजेपी को हराने के लिए विपक्षी दलों को साथ आने की बात कह रहे हैं. रिपोर्ट के अनुसार, एक वरिष्ठ एनसीपी नेता ने बताया, ‘पवार साहेब बीजेपी के खिलाफ सभी विपक्षी दलों को साथ लाने के लिए काम कर रहे हैं. इस विषय पर चर्चा होना स्वभाविक है.’ पवार ने हाल ही में कहा था कि महाविकास अघाड़ी की सरकार ना केवल पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी, बल्कि लोकसभा और राज्य के विधानसभा चुनाव में भी अच्छा प्रदर्शन करेगी

बंगाल चुनाव के बाद किशोर ने कहा था कि वे अब चुनावी रणनीतिकार के रूप में काम नहीं करेंगे. रिपोर्ट के मुताबिक, यह कयास लगाए जाने लगे थे कि वे विपक्षी दलों का राष्ट्रीय गठबंधन बनाने के लिए ममता बनर्जी के साथ काम कर रहे हैं. हालांकि, इन दावों की पुष्टि नहीं हो सकी थी. हिंदुस्तान टाइम्स को पवार से मीटिंग को लेकर किशोर ने बताया, ‘यह केवल एक भोजन के साथ एक शिष्टाचार बैठक थी. इसका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है.’ खास बात है कि वे 2019 के विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भी सलाह दे चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here