दिल्ली,में कैसे लागू होगा ऑड-ईवन का फार्मूला जानें कौन सी दुकानें कब खुलेंगी लॉकडाउन की पाबंदियां भी कम की जाने लगी हैं

0
238
दिल्ली,में कैसे लागू होगा ऑड-ईवन का फार्मूला जानें कौन सी दुकानें कब खुलेंगी लॉकडाउन की पाबंदियां भी कम की जाने लगी हैं

दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले कम होने के साथ ही लॉकडाउन की पाबंदियां भी कम की जाने लगी हैं. हालांकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लॉकडाउन को 14 जून सुबह 5 बजे तक बढ़ाने की घोषणा की है. लेकिन इसमें कई सारी रियायतें दी गई हैं. सीएम केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में धीरे-धीरे कोरोना की स्तिथि बेहतर हो रही है जिसे देखते हुए हमने अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की है. 7 जून को सुबह 5 बजे तक लॉकडाउन जारी रहेगा. इसके बाद काफी सारी एक्टिविटी में रियायत दी जा रही है. पिछले हफ्ते फैक्ट्री और कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी खोली थीं और उसके बावजूद स्तिथि कंट्रोल में है.

सीएम केजरीवाल ने बताया कि 7 जून के बाद ऑड-इवेन के फार्मूले पर दुकानें खुलेंगी. इसको लेकर आवश्यक दिशानिर्देश जारी कर दिए गए हैं. इसका पालन करना सभी के लिए अनिवार्य कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि क्षेत्रवार कोरोना संक्रमण के आंकड़ों को ध्यान में रखकर बाजार खोले जाएंगे. कंटेनमेंट जोन वाले इलाकों में पहले जैसी पाबंदियां रखी जा सकती हैं.

इस तरह खुलेंगे बाजार

नए दिशानिर्देश के अनुसार मॉल्स और बाजार में ऑड-इवन के फार्मूले पर दुकान खोली जाएंगी. दुकानें खोलने का समय सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक निर्धारित किया गया है. हालांकि कौन से ट्रेड की दुकानें कब खुलेंगी, ये तय करने की जिम्मेदारी मार्केट ट्रेड एसोसिएशन पर छोड़ी गई है, वो जिला कलेक्टर अन्य प्रशासनिक अधिकारियों से चर्चा कर इसपर निर्णय ले सकते हैं. संभवत: दुकानों के नंबर के आधार पर ऑड इवेन फार्मूला लगाया जा सकता है. जबकि मोहल्लों में सिंगल शॉप रोज खोली जा सकती हैं.

मसलन ऑड तारीख (3,6,9,11, 13..) के दिन ऑड नंबर की दुकानें खुलेंगी और ईवन तारीख (2,4,6,8..) के दिन ईवन नंबर की दुकानें खोली जाएंगी. यानी, आधी दुकानें सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को खुलेंगी तो आधी दुकानें मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को खुलेंगी. दुकानें खुलने का समय सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक होगा. जरूरी सेवाओं से जुड़ी दुकानें हर दिन खुलेंगी. ई-कॉमर्स के जरिए होम डिलीवरी करने की इजाजत रहेगी.

उपभोक्ताओं को होगी परेशानी

बताया जा रहा है कि सरकार के इस फैसले से उपभोक्ताओं को परेशानी का सामना करना पड़ेगा. क्योंकि एमसीडी में रजिस्टर्ड नंबर के आधार पर दुकानें खोली जाएंगी. ऐसे में किसी किसी की दुकान के आगे का नंबर कुछ और है और पीछे का नंबर कुछ और है, किसी दुकानदार के पास एक साथ दो नंबर हैं. ऐसे में असमंजस की स्थिति रहेगी कि दुकानदार क्या करें और सबसे ज्यादा खरीदारों को परेशानी होगी क्योंकि खरीददारों को पता ही नहीं होगा कि कौन सी दुकान कब खुलेगी.

दफ्तरों में ऐसे होंगे काम

सरकारी दफ्तर में ग्रुप A ऑफिसर 100 फीसदी उपस्थिति के साथ काम करेंगे और ग्रुप B में 50 फीसदी काम करेंगे. निजी ऑफिस 50 फीसदी क्षमता के साथ खोले जा सकते हैं. ज्यादा से ज्यादा वर्क फ्रॉम होम के लिए निवेदन किया गया है. इसके अलावा आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की दुकानें रोज खुलेंगी. इसके साथ दिल्ली मैट्रो 50 फीसदी क्षमता के साथ खुलेंगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here