देश के किसानों को बताया अराजक अलका बोलीं जिस दिन वो अराजक हो जाएगा पूरा देश भूखा मरेगा

0
202

कांग्रेस नेता और पूर्व विधायक अलका लांबा ने आंदोलन कर रहे किसानों को अराजक कहे जाने का कड़ा विरोध किया है।

अलका ने कहा कि किसान न कभी अराजक था और न ही कभी अराजक हो सकता है। जिस दिन किसान अराजक हो गया उस दिन पूरा देश भूखे मरेगा।

दरअसल आज दिल्ली के गाजीपुर सीमा पर आंदोलन कर रहे किसानों और भाजपा समर्थकों के बीच झड़प हो गई। इस दौरान लाठी, डंडे भी चलें और पथराव भी हुआ।

इसके बाद गोदी मीडिया ने किसानों के खिलाफ अपना एजेंडा चलाना शुरु कर दिया। न्यूज 18 इंडिया पर अमिश देवगन ने कहना शुरु कर दिया कि किसान का झंडा, बीजेपी विरोध का एजेंडा, आंदोलन का नाम और अराजक काम।

अमिश देवगन ने इस स्लोगन को ट्वीटर पर पोस्ट भी किया, जिसके जवाब में अलका लांबा ने कहा कि “किसान इस देश का अन्नदाता है। अन्नदाता कभी अराजक नहीं हो सकता।अन्नदाता जिस दिन अराजक हो गया, उस दिन पूरा देश भूखे मर जाएगा

अलका ने कहा कि किसान तो आज भी अपनी फसल बचाने के लिए आंदोलन के साथ साथ देश के प्रति अपना धर्म भी निभा रहा है।

अलका ने अमिश देवगन को आईना दिखाते हुए कहा कि किसान न तो कभी अराजक था और न ही कभी अराजक हो सकता है. किसान एक तरफ फसल उपजा कर देश का पेट भी भर रहा है, दूसरी ओर अपने हक हुकूक के लिए संघर्ष भी कर रहा है।

बताया जा रहा है कि दिल्ली की गाजीपुर सीमा पर भाजपा के कुछ कार्यकर्ता पार्टी के एक नेता के स्वागत के लिए जुटे हुए थे। यहीं पर आंदोलनकारी किसान भी जमा थे।

इसी बीच अचानक से बवाल शुरु हो गया। देखते ही देखते इलाका रणक्षेत्र में तब्दील हो गया।

भाजपा समर्थकों ने किसानों पर आरोप लगाते हुए कह दिया कि आंदोलनकारियों ने ही हंगामा शुरु किया और हमारे नेताओं पर पत्थरबाजी की।

वहीं किसान नेता राकेश टिकैत ने इस मुद्दे पर कहा कि वहां मौजूद भाजपा नेता हमारे मंच तक आ गए और अपने नेता का स्वागत करने लगे। हमारा मंच सड़क पर लगा हुआ है ये सही बात है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि आप हमारे मंच पर आ जाओगे।

अगर हमारे मंच पर आपको आना ही है तो भाजपा को छोड़ कर आना होगा। ये दिखाना कि हमने किसानों के मंच पर भाजपा का झंडा लहरा दिया और उस पर कब्जा कर लिया, ये सही नहीं होगा।

राकेश टिकैत ने सख्त तेवर दिखाते हुए कहा कि हम ऐसे लोगों का बक्कल उधेड़ कर रख देंगे।

टिकैत ने कहा कि जो इसे धमकी समझना चाहते हैं, वह इसे धमकी समझ सकते हैं। अगर भाजपाईयों को मंच इतना ही प्यारा है तो आ जाओ भाजपा छोड़कर हमारे साथ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here