फार्मेसी में फर्ज़ी ढंग से नामांकन के नाम पर रूपये लेकर फरार

0
232


सहरसा -एक तरफ जहाँ सरकार छात्र एवं छात्राओ को अच्छी शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रॉत्साहित करती है वहीं कुछ शिक्षा माफिया इन अवसरों का लाभ उठाने से नही हिचकिचाते साथ ही नामांकन एवं डिग्री के नाम पर गरीब छात्रों से लाखों की वसूली करते हैं। ताज़ा मामला पूर्वी चम्पारण मोतिहारी के एक फार्मेसी कॉलेज का है जिसने नामांकन के नाम पर बच्चों से लाखों रूपया वसूल लिया इसी धोखे के शिकार सिमरीबख्तीआरपुर के एक छात्र अबु होरैरा को होना पड़ा जिसने कॉलेज के चेयरमैन और गलेन मार्क कंपनी मुंबई के एक कर्मचारी महफूज आलम के द्वारा चम्पारण कॉलेज ऑफ़ फार्मेसी का बिहार परीक्षा नियंत्रक बोर्ड का फर्जी कागजात दिखाने पर धोखा खा कर सत्र 2020 में d.pharmacy मै नामांकन ले लिया ज्ञात हो की स्वास्थ्य विभाग पटना (बिहार) 28/01/2021 को पत्र जारी करते हुए कॉलेज के जाँच हेतु आदेश निर्गत करता है जबकि महफूज़ आलम ने कॉलेज को बिना N O C मिले सत्र 2020 में ही नामांकन ले लिया साथ ही साल 2020 माह अगस्त /सितम्बर मै innovative welfare and educational trust (motihari ) जिसका खाता सं0 38924860783 पर 70000 हज़ार रूपये ट्रांसफर करा लिया और दोबारा से और रूपया भेजने का दवाब बनाने लगा, लेकिन कॉलेज की सच्चाई सामने आने के बाद छात्र अबु होरैरा पैसा लौटने को कहा तो महफूज आलम धमकी चमकी देने लगे, पीड़ित ने सरकार एवं प्रशासन से न्याय की गुहार लगाते हुए ऐसे शिक्षा माफियाओ पर कड़ी से कड़ी करवाई करने की मांग की है ताकि आगे कोई भी शिक्षा माफिया किसी भी छात्र, छात्राओं के भविष्य के साथ खेलवाड़ न कर सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here