मनीष सिसोदिया,बोले केंद्र सरकार के मंत्रियों का एक ही काम, सिर्फ अरविंद केजरीवाल को गाली देना

0
201
मनीष सिसोदिया,बोले केंद्र सरकार के मंत्रियों का एक ही काम, सिर्फ अरविंद केजरीवाल को गाली देना

नई दिल्ली: 

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार को डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान सिसोदिया ने बीजेपी पर हमला किया. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की एक बहुत सीनियर मंत्री ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की मैंने वह प्रेस कॉन्फ्रेंस देखी. सिसोदिया ने कहा कि उन्होंने दिल्ली में राशन की योजना को लेकर, वैक्सीन को लेकर.. तमाम योजनाओं को लेकर अरविंद केजरीवाल को खूब गाली गलौज की है. उन्होंने कहा कि आजकल केंद्र सरकार के मंत्रियों के पास एक ही काम रह गया है कि वे दिन मे एक बार मीडिया में आते हैं और अरविंद केजरीवाल को गाली देने लगते हैं. काम की बात कोई नहीं करता, राष्ट्र निर्माण की बात कोई नहीं करता.

सिसोदिया ने आरोप लगाया कि कभी कोई मंत्री आएंगे तो पश्चिम बंगाल की सरकार को गाली देने लगेंगे कभी कोई मंत्री आएंगे तो झारखंड की सरकार को गाली देने लगेंगे. कभी महाराष्ट्र की सरकार को गाली देने लगेंगे.आजकल केंद्र सरकार के पास राज्यों को गाली देने के अलावा कोई काम नहीं बचा है क्या? 

मनीष सिसोदिया के प्रेस कॉनफ्रेंस की खास बातें

– कभी कहेंगे कि ऑक्सीजन की सप्लाई पूरी नहीं हुई, अरे ऑक्सीजन को लेकर गड़बड़ किसने की… केंद्र सरकार ने गड़बड़ की.. आप समय रहते ठीक कर लेते! सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद आपने ऑक्सीजन की सप्लाई सुधारी और अब राज्य सरकार को गाली दे रहे हो
– पूरे देश के डेढ़ करोड़ बच्चे कहते रहे की परीक्षाएं रद्द कर दो.. परीक्षाएं रद्द कर दो… बीजेपी के लोग आकर कहते रहे कि राज्य सरकारें गलत कर रही हैं. जब मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और देश के सभी बच्चों ने आवाज लगाई तो कहते हैं कि चलो परीक्षाएं रद्द कर देते हैं.
– देश के सभी राज्यों ने कहा कि साहब वैक्सीन दे दो.. वैक्सीन दे दो… अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खरीद लो तो राज्य सरकारों की नहीं सुनी, राज्य सरकारों को गाली देते रहें.

– आजकल केंद्र सरकार और सारे मंत्री तीन चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों को गाली देने के अलावा कोई काम नहीं कर रही है… बाकी काम सुप्रीम कोर्ट की लताड़ के बाद कर रहे हैं

– जो भारतीय जनता पार्टी के नेता कर रहे हैं मैं उस पर कुछ नहीं कहूंगा, मेरे संस्कार मुझे गाली देना नहीं सिखाते.. वे उनके संस्कार हैं. एक बात कहूंगा चाहे वह वैक्सीन का मसला हो या फिर राशन का मसला हो सब में कॉमन फैक्टर यह है कि केंद्र सरकार विफल रही है.

– सुप्रीम कोर्ट को कहना पड़ा तब आपने वह काम किए. मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि जब पिज़्ज़ा फोन करने पर घर आ सकता है… 21वीं सदी में पिज़्ज़ा की, कपड़ों की.. खाने की डिलीवरी घर पर हो सकती है तो गरीब आदमी के राशन के डिलीवरी घर पर क्यों नहीं हो सकती.
– अगर एक अमीर आदमी अपने घर पर पिज़्ज़ा डिलीवर कर आ सकता है तो सरकार गरीब लोगों का राशन उनके घर पर क्यों नहीं पहुंचा सकती.
– आज केंद्रीय मंत्री आ कर गाली देने लगे कि ये तो ऐसे हैं.. वैसे हैं.. अगर आईआईटी से पढ़ा हुआ एक मुख्यमंत्री यह सोच रहा है कि गरीब के दरवाजे पर राशन की डिलीवरी हो जाए तो इसमें गलत क्या सोच रहा है…  आप बताएं कि आप अडंगा क्यों अड़ाते हैं?

यह बताएं साफ-साफ के जब पिज्जा घर पहुंच सकता है तो गरीब आदमी का राशन घर क्यों नहीं पहुंच सकता. देश के लोग ऐसी सरकार से तंग आ चुके हैं जो रोज टीवी पर बैठकर गालियां देने का काम करती है. देश के लोगों ने सरकार चुनते समय सोचा था कि बीजेपी का नाम होगा भारतीय जनता पार्टी लेकिन आज सिध्द हो गया है कि बीजेपी का मतलब है भारतीय झगड़ा पार्टी. केवल और केवल राज्य सरकारों से झगड़ा करती है और उनके काम में टांग अड़ाती है.

– गरीब लोगों के घर अगर सरकार राशन पहुंचाएं तो यह पुण्य का काम था… लेकिन यह गाली दे रहे हैं… राष्ट्र निर्माण का काम को सरकार करना चाहती है तो ये गाली देने लगते हैं और टांग अड़ाते हैं. आप भारतीय जनता पार्टी बन कर रही है भारतीय झगड़ा पार्टी मत बनिए.

– केंद्र में बीजेपी की सरकार का मतलब भारतीय जनता पार्टी की सरकार होना चाहिए ना कि बीजेपी का मतलब भारतीय झगड़ा पार्टी की सरकार होना चाहिए. जनता आज ऐसी सरकार चाहती है जो राज्यों के साथ मिलकर काम करें… राज्यों के काम में टांग अड़ा ने से और दिनभर गाली दिल्ली से राष्ट्र निर्माण का काम नहीं होता है

जब कोई राज्य सरकार देश के लोगों के भले के लिए कोई योजना लेकर आ रही है तो उसमें केंद्र सरकार सहयोग करे, गाली गलौज ना करें. मैं निवेदन करूंगा कि राज्य सरकार के साथ मिलकर काम करें, असली राष्ट्र निर्माण तभी होगा जब आप राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम करेंगे…. बाकी अगर आपका नाम भारतीय झगड़ा पार्टी है तो आपको मुबारक.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here