मुनव्वर राणा का बेटा तबरेज राणा गिरफ्तार

0
30
मुनव्वर राणा का बेटा तबरेज राणा गिरफ्तार

शायर मुनव्वर राणा के बेटे तबरेज राणा को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इंडिया टुडे/आजतक के मुताबिक, रायबरेली पुलिस ने तबरेज राणा को उनके लखनऊ स्थित घर से अरेस्ट किया है. मुनव्वर राणा के बेटे तबरेज़ राणा पर खुद पर हमला करवाने का आरोप है.

बीते जून महीने में रायबरेली में तबरेज पर फायरिंग होने का एक मामला सामने आया था. लेकिन जांच में पुलिस ने पाया था कि अपने परिजनों को फंसाने के लिए तबरेज ने खुद पर फायरिंग कराई थी. इसी मामले में कोर्ट ने तबरेज के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया था. इसी कड़ी में बुधवार 25 अगस्त को रायबरेली पुलिस ने तबरेज राणा के खिलाफ कार्रवाई की.

ये है पूरा मामला

रिपोर्ट के मुताबिक, 28 जून को रायबरेली शहर कोतवाली इलाके में शाम 5:30 बजे तबरेज पर फायरिंग हुई थी. इस घटना में शामिल 2 शूटरों समेत चार लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. पूछताछ में आरोपी हलीम, सुल्तान, सत्येंद्र तिवारी और शुभम सरकार ने पुलिस को बताया कि गोलीकांड खुद तबरेज राणा ने कराया था. इस आधार पर आगे कार्रवाई करते हुए रायबरेली पुलिस ने तबरेज पर मुकदमा दर्ज किया और उनकी तलाश शुरू की.

आजतक के रायबरेली संवाददाता शैलेंद्र सिंह की एक रिपोर्ट के मुताबिक,

“मामले में पहले 307 यानी हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया गया था. लेकिन पुलिस का कहना है कि जांच में ऐसा पाया गया कि तबरेज ने खुद पर ही फायरिंग कराई थी. लिहाजा अब पुलिस ने आईपीसी की धारा 120बी यानी षड्यंत्र करने और 211 यानी झूठा आरोप लगाने से संबंधित धारा में तबरेज को गिरफ्तार किया है.”

रायबरेली के पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने बताया कि ये पूरा मामला सीसीटीवी में भी रिकॉर्ड हुआ है. उनके मुताबिक,

फुटेज में दिखता है कि घटना वाले दिन तबरेज रायबरेली के पेट्रोल पंप पर पहुंचता है. वो गाड़ी पेट्रोल पंप के बाहर ही खड़ा करता है. खुद गाड़ी में बैठा रहता है. कुछ देर बाद 2-3 शूटर वहां पहुंचते हैं. पेट्रोल पंप के गेट पर फायरिंग करते हैं और वहां से भाग जाते हैं.

जमीन का विवाद

मुनव्वर राणा मूल रूप से यूपी के रायबरेली के रहने वाले हैं. लेकिन लंबे समय से लखनऊ में रहते हैं. उनका बेटा तबरेज भी उनके साथ ही रहता है. मुनव्वर राणा और उनके 5 भाइयों के बीच साढ़े चार बीघा जमीन को लेकर विवाद है. ये जमीन शहर से कुछ दूर रायबरेली-लालगंज राष्ट्रीय राजमार्ग के पास ही है. इस वजह से इस जमीन की कीमत काफी ज्यादा है. तबरेज राणा ने 85 लाख रुपए लेकर जमीन का एक हिस्सा जब्बार नाम के व्यक्ति के नाम बैनामा कर दी थी. इस बात की जानकारी जब दूसरे हिस्सेदारों को हुई तो उन्होंने सौदा रुकवा दिया.

रिपोर्ट के मुताबिक, चचेरे भाइयों ने जमीन के सौदे पर आपत्ति जताई, तो तबरेज पर पैसे वापस करने का दबाव बनने लगा. आरोप है कि इसी झंझट से छुटकारा पाने के लिए तबरेज ने ये कहानी रची. पुलिस का दावा है कि वो ऐसा करके गोलीबारी का आरोप अपने परिवार के लोगों पर लगाना चाहता था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here