राजधानी दिल्ली में जोरदार बारिश, यमुना नदी का जलस्तर खतरे के निशाने के करीब पहुंचा

0
178
राजधानी दिल्ली में जोरदार बारिश, यमुना नदी का जलस्तर खतरे के निशाने के करीब पहुंचा

नई दिल्ली: 

Delhi Rain : राजधानी दिल्ली में जोरदार बारिश (Delhi Weather Today) देखने को मिली. रविवार सुबह मानसून के घने बादलों के बीच वहां तेज बारिश से मौसम सुहाना हो गया है. हालांकि दिल्ली में यमुना का जलस्तर एक बार फिर खतरे के निशान के करीब पहुंच गया है. रविवार सुबह 8 बजे यमुना का जलस्तर  205.28 मीटर पहुंचा जबकि ख़तरे का निशान 205.33 मीटर है. शनिवार को यमुना का जलस्तर खतरे के निशान से नीचे आ गया था और लगातार जलस्तर घट रहा था लेकिन दिल्ली-एनसीआर में बारिश के बाद से जलस्तर लगातार बढ़ रहा है.

बारिश के कारण यमुना बाजार समेत कई इलाकों में सड़कों पर जलभराव से यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा, लेकिन छुट्टी का दिन होने के कारण जाम जैसी स्थिति नहीं रही. यमुनाबाजार इलाके में पुल के नीचे कई फीट पानी भरने (Delhi Waterlogging) से कारें और अन्य वाहनों को परेशानी हुई. मौसम विभाग का भी मानना है कि दिल्ली में अगले कुछ दिनों तक बारिश इसी तरह होती रहेगी. बारिश से यमुना नदी का जलस्तर भी बढ़ रहा है.

दिल्ली में मानसून इस बार करीब 15 मिनट की देरी से पहुंचा है, लेकिन मानसून की सक्रियता के बाद यहां अमूमन हर रोज तेज या छिटपुट बारिश देखने को मिल रही है. हालांकि बारिश औऱ जलभऱाव के कारण कई जगह सड़कों के धंसने से कई फीट गहरे गड्ढे से हादसे होते-होते भी बचे हैं. आईआईटी फ्लाईओवर के नीचे भी शनिवार को ऐसा ही 10-15 फीट सड़क अचानक ही धंस गई. इससे कई फीट गहरा गड्ढा हो गया. सड़क पर चल रहे वाहन इसकी चपेट में आने से बाल-बाल बचे. 

राजधानी में भारी बरसात के कारण यमुना का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है और यह खतरे के निशान के करीब पहुंच गया है. यमुना का जलस्तर 205.28 मीटर दर्ज किया गया है. 24 घंटे में इसके खतरे के निशान तक पहुंचने का अनुमान जताया जा रहा है. यमुना में 205.33 मीटर पर खतरे का निशान है. राजधानी में यमुना के तटीय इलाकों में अलर्ट जारी किया गया था. जल प्रवाह की बात करें तो बीते 24 घंटे में यह 1.60 लाख क्यूसेक दर्ज की गई है, यह साल का सबसे अधिक स्तर है.

दिल्ली में पिछले मंगलवार को तो रिकॉर्डतोड़ बारिश हुई थी.राजधानी के कुछइलाकों में 100 मिलीमीटर से भी ज्यादा बारिश दर्ज की गई थी. यह 2013 के बाद का सबसे बड़ा रिकॉर्ड था. एक दशक में यह तीसरी बार है, जब यहां 100 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई हो. अब तक सबसे बड़ा रिकॉर्ड 266.2 mm का है, जब 1958 में 21 जुलाई को दिल्ली में इतनी बारिश दर्ज हुई थी.

हिंदुस्तान हिंदी टाइम्स Whatsapp Group link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here