JDU-BJP की तनातनी के बीच नीतीश कुमार ने सोनिया गांधी से की बातचीत, मौजूदा राजनीतिक हालातों पर की चर्चा

0
191

बिहार की राजनीति में इन दिनों कयासों का बाजार गर्म है. एक तरफ जेडीयू और बीजेपी की तरफ से तनातनी और नाराजगी की बातों को खारिज किया जा रहा है, दूसरी तरफ नए समीकरणों पर चर्चाओं का शोरगुल भी सुनाई दे रहा है. नीतीश कुमार और सोनिया गांधी के बीच मौजूदा राजनीतक हालातों पर चर्चा हुई है. दोनों नेताओं के बीच बातचीत की जानकारी कांग्रेस पार्टी से जुड़े विश्वस्त सूत्रों ने दी है. प्राप्त जानकारी के एनुसार दोनों नेताओं के बीच फोन पर बातचीत हुई है

  1. बिहार की राजनीति में आने वाले 48 घंटे बेहद अहम माने जा रहे हैं. JDU के महगठबंधन में फिर से वापस आने के संकेत मिले हैं. सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार, भाजपा को छोड़कर सभी दलों ने विधायक दल की बैठक बुलाई है. इन विधायकों और सांसदों की बैठक में अहम फैसला हो सकता है. बताते चलें कि JDU 2017 में महागठबंधन से अलग होकर एनडीए में शामिल हो गया था. यह महागठबंधन 2015 के विधानसभा चुनाव में बना था, उस वक्त जदयू इस गठबंधन का अहम हिस्सा था.
  2. वर्तमान के राजनीतिक घटनाक्रम को देखें तो बीजेपी और जदयू के बीच की खाई बढ़ती जा रही है. सूत्रों का कहना है कि नीतीश कुमार बिहार के 200 विधानसभा क्षेत्रों में बीजेपी के प्रवास कार्यक्रम से खुश नहीं हैं. सूत्रों का कहना है कि भाजपा यह संदेश देना चाहती है कि वह आगामी चुनाव में सभी 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी. इसके जवाब में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने भी कहा कि उनकी पार्टी भी 243 सीटों के लिए तैयारी कर रही है.
  3. सूत्रों के अनुसार जेडीयू का मानना है कि बीजेपी द्वारा आरसीपी सिंह की मदद से जेडीयू को तोड़ने की साजिश की जा रही है. बताते चलें कि पिछले दिनों आरसीपी सिंह पर उन्हीं की पार्टी ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर शोकॉज नोटिस जारी किया था, जिसके बाद सिंह ने पार्टी से इस्तीफा देकर जेडीयू को डूबता जहाज करार दिया था.
  4. बीजेपी इस पूरे मामले पर खुलकर बोलने से बच रही है लेकिन आरसीपी सिंह बनाम नीतीश कुमार के बीच पैदा हुए विवाद पर वह आरसीपी सिंह की तरफ खड़ी दिखाई दे रही है. बीजेपी के नेता और पूर्व विधायक मिथिलेश तिवारी ने कहा कि ये जद यू का आंतरिक मामला है लेकिन ‘कोई’ पार्टी का अध्यक्ष हो सकता है, शीर्ष नेता हो सकता है लेकिन कोई मालिक नहीं हो सकता है. उन्होंने आरसीपी सिंह को लेकर कहा कि नीतीश कुमार ने ही उन्हें बनाया था अब वो ही इसे मिटा रहे हैं. यहां बीजेपी नेता साफ कर दिया कि वह नीतीश कुमार के लिए अच्छा भाव रखते हैं.
  5. JDU के विधायक और सांसद के पटना में रहने पर मिथिलेश तिवारी ने कहा कि ये सावन का अंतिम सोमवार है. सावन में सभी लोग अपने लिए अच्छा सोच रहे हैं. बिहार की जनता सब देख रही है. उन्होंने कहा कि सबके चरित्र का आकलन जनता करती है. जनता के साथ साथ बीजेपी की भी पैनी नज़र है. उन्होंने कहा कि हम लोगो ने तय किया है कि साल 2024 और 2025 दोनों साथ साथ लड़ेंगे.
  6. इस पूरे विवाद में खुद को मोदी का हनुमान बताने वाले चिराग पासवान भी बयान देने से पीछे नहीं रहे. उन्होंने इस पूरे मामले में नीतीश कुमार को निशाने पर लेते हुए कहा कि बिहार में इतने ज्वलंत मुद्दे के बाद भी ऐसे चीज की चर्चा हो रही है जिससे बिहार की जनता को कोई लेना देना नहीं हैं. उन्होंने कहा कि नीतीश मुख्यमंत्री रहते हैं या नहीं रहते हैं इससे जनता को कोई लेना देना नहीं.
  7. बकौल चिराग, नीतीश कुमार सिर्फ तोड़ जोड़ में लगे रहते हैं. पिछले डेढ़ साल से सीएम नीतीश किसके साथ रहेंगे,राष्ट्रपति बनेंगे, उपराष्ट्रपति बनेंगे इसी पर चर्चा होती रही है. उन्होंने कहा कि जदयू चिराग मॉडल की बात करता है और हम बिहारी फर्स्ट की बात करते हैं.
  8. नीतीश कुमार और आरजेडी के साथ आने की अटकलों के बीच राजद नेता जेडीयू से मिले समर्थन का आभार व्यक्त करते दिखाई दे रहे हैं.राजद नेता और पूर्व मंत्री शिवचंद्र राम ने नीतीश बनाम आरसीपी सिंह विवाद पर टिप्पणी करते हुए कहा कि यह JDU का आंतरिक मामला है, जिस पर मुझे कुछ नहीं कहना लेकिन महंगाई के मामले पर ललन बाबू का साथ मिला. उन्होंने कहा कि अच्छी बात है जनहित के मसले पर हमे जद यू का समर्थन मिला.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here